Breaking

Saturday, August 24, 2019

स्कूल केसे खोले, स्कूल खोलने की पूरी प्रक्रिया।

जानिए स्कूल केसे खोले,स्कूल  खोलने की संपूर्ण जानकारी।

हेल्लो दोस्तों स्वागत है आप सभी का एक बार फिर से हमारी वेबसाइट new business ideas में, आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे । स्कूल केसे खोले,

ओर स्कूल खोलने की पूरी प्रक्रिया के बारे में जानेंगे। 

इस लेख के माध्यम से हम वह सभी जानकारी आपको देंगे जो एक प्राइवेट स्कूल खोलने के लिए आवश्यक है, जैसे- स्कूल की मान्यता केसे ले, स्कूल खोलने में कितना खर्चा, स्कूल खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज। अगर आप स्कूल खोलना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पड़े इसमें आपको स्कूल खोलने की प्रक्रिया को स्टेप बाय स्टेप बताई जाएगी।
स्कूल केसे खोले, स्कूल खोलने की पूरी प्रक्रिया।

हम साभी जानते हैं कि आज भारत की जनसंख्या विश्व भर में दूसरे नंबर पर है, आने वाले बीस से तीस साल में भारत जनसंख्या के मामले में सबसे आगे होगा। 
सभी के जीवन में शिक्षा का महत्व बहुत ज्यादा होता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सभी माता पिता अपने बच्चों को अच्छे से अच्छे स्कूल में भर्ती करते हैं ताकि बच्चे का भविष्य अच्छा बने। आज कल के माता पिता अपने दो से तीन साल के बच्चो को स्कूल बेच देते। इस कारण हमारे भारत देश में प्राइवेट स्कूल की मांग बहुत ज्यादा हो गई है,इसका सबसे बड़ा कारण है सरकारी स्कूलों में सही शिक्षा व्यवस्था नहीं होना हालांकि भारत सरकार शिक्षा को बढ़ावा दे रही है लेकिन बड़ती जनसंख्या के कारण अच्छी व्यवस्था नहीं कर पाते यही कारण है ज्यादातर माता पिता अपने बच्चों को प्राइवेट और अच्छे स्कूल में एडमिट करवाना चाहते हैं। 
इस आधार पर आप एक अच्छे स्कूल की स्थापना कर के अच्छी इनकम कर सकते हैं साथ ही शिक्षा को भी बढ़ावा दे सकते हैं। बहुत सारे लोग स्कूल तो खोलना चाहते हैं लेकिन उनको सही जानकारी नहीं मिल पाती है इसीलिए हम आपको वह सभी जानकारी देंगे जो स्कूल खोलने के लिए आवश्यक है।
जीएसटी क्या है? जीएसटी सेवा केन्द्र केसे खोले?

स्कूल खोलने के लिए आपकी क्वालिफिकेशन।

स्कूल खोलने के लिए आप के पास आवश्यक क्वालिफिकेशन के दस्तावेज होना जरूरी है या फिर आप दूसरे के नाम पर स्कूल का रजिस्टर करा सकते हैं।

  • आपको 12 वी पास होना चाहिए।
  • उसके बाद आप बी एस टी सी या डी एल डी होना चाहिए
  • या आप स्नातक करने के बाद बीएड करना आवश्यक है। 
  • आपको पांच साल का एक्सपीरियंस होना जरूरी है, किसी भी प्राइवेट संस्था में।
  • आपको स्कूल मैनेजमेंट cours भी करना बहुत जरूरी है। 




अगर आपने यह सब कर रखा है तो आप किसी भी तरह के स्कूल की स्थापना कर सकते हैं। अगर आपने यह सब नहीं कर रखे हैं तो आप किसी दूसरे व्यक्ति के नाम भी अपनी संस्था की स्थापना कर सकते हैं। 
दोस्तो स्कूल खोलने की सबसे पहली स्टेप होती हैं मान्यता प्राप्त करना।

Types of school

दोस्तो हमारे भारत देश में कहीं प्रकार के स्कूल खोले जाते हैं मुख्य रूप से दो प्रकार के स्कूल होते हैं।
1. सीबीएसई स्कूल।
2. राज्य बोर्ड स्कूल।
तो आप सबसे पहले इस बात का निर्णय करे कि आप किस तरह का स्कूल खोलना चाहते है। उसी के अनुसार अलग अलग प्रकिर्या है।

Coaching classes केसे खोले

स्कूल के लिए मान्यता केसे ले?

मान्यता दो प्रकार की होती है, प्राथमिक विद्यालय की मान्यता ओर उच्च प्राथमिक विद्यालय की मान्यता। 
आपको किसी भी प्रकार की मान्यता प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन ही आवेदन करना होगा क्यो की ऑफलाइन मान्य नहीं है। 
स्कूल केसे खोले, स्कूल खोलने की पूरी प्रक्रिया।

  • सबसे पहले मान्यता प्राप्त करने के लिए आपको sociaty या ट्रस्ट पंजीकरण कराना होगा। 
  • पंजीकरण के प्रमाण पत्र को स्कैन करें के अपलोड करना होगा।
  • आपको इस प्रकार का पंजीकरण डिस्ट्रिक रजिस्ट्रार के पास करवाना होगा।
  • इसके अलावा sociaty या ट्रस्ट संस्था से संभधित दी जा रही प्रमुख सूचनाओं को 50 रुपए के स्टाम्प पेपर पर नोटरी द्वारा प्रमाणित करवाकर शपथ पत्र के रूप में प्रस्तुत करना होगा।


मान्यता लेने के लिए कितना खर्चा आयेगा।

प्राथमिक विद्यालय की मान्यता के लिए खर्च।
  • 2000 रुपए की डीडी बनवानी होगी जिला शिक्षा अधिकारी के नाम या प्राथमिक शिक्षा अधिकारी के नाम।
  • 5000 रुपए मान्यता आवेदन शुल्क।
  • 10000 रुपए आरक्षित कोश की राशि।
  • 50000 रुपए की राशि फिक्स्ड डिपॉजिट के रूप में देनी होगी।


उच्च प्राथमिक स्कूल खोलने की लागत।

  • 2000 रुपए डीडी बनवानी होगी। जिला शिक्षा अधिकारी के नाम।
  • 10000 रुपए आरक्षित कोश की राशि जिसका डीडी सचिव के नाम।
  • 5000 रुपए मान्यता आवेदन शुल्क।
  • एक लाख रुपए फिक्स्ड डिपॉजिट के।


मान्यता के लिए आवश्यक दस्तावेज।

  • सोसायटी के पंजीकरण प्रमाण पत्र की सत्यपित प्रति।
  • Sociaty के विधान की सत्यापित प्रति, जिसमें sociaty के शैक्षिक उद्देश्यों का उल्लेख।
  • विद्यालय भवन के सक्षम अधिकारी द्वारा जारी नवीनतम सुरक्षा प्रमाण पत्र की प्रति।
  • विद्यालय भवन के पांच रंगीन फोटो जो आवेदन के लिए अपलोड किया गया हो।
  • शपथ पत्र नोटरी वाला 50 रुपए के स्टाम्प पेपर पर

How to start electric charging station

मान्यता आवेदन शुल्क की राशि का डीडी आवेदन पत्र के साथ ही देना होगा तथा कोश की राशि की डीडी तथा फिक्स्ड डिपॉजिट की गई राशि का विवरण आवेदन पत्र की जांच एवं भौतिक सत्यापन के बाद संस्था के माध्यम के योग्य पाए जाने की स्थिति में देना होगा।
इसके लिए सम्बन्धित जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा आवेदनकर्ता को समय पर सूचित किया जाएगा। समस्त प्रकार के शुल्क प्राप्त होने पर ही मान्यता जारी कि जाएगी।

आवेदन अप्लाई करने के लिए आपको अपने राज्य के शिक्षा विभाग का जो भी प्राइवेट पोर्टल है, उस पर सबसे पहले आपको रजिस्ट्रेशन करना होगा।
जैसे राजस्थान शिक्षा विभाग की पोर्टल है- raspsp.nic.in
इस प्रकार की राज्य पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन करने के बाद आपको अपने मोबाइल पर आईडी नंबर और पासवर्ड प्राप्त हो जाएगा। अब आप आईडी आर पासवर्ड से लॉगिन करके सभी जानकारी सही तरह से भरकर आप आवेदन कर सकते हैं। ओर उसे लॉक कर दीजिए। इसके बाद उसका प्रिंट आउट निकालकर हार्ड कॉपी सम्बन्धित विभाग बेजना है। 
एक बात अवश्य ध्यान रखना हार्ड कॉपी पर विद्यालय संचालन समिति के सचिव के हस्ताक्षर और मोहर लगानी है। साथ में पांच रंगीन फोटो भी इन सभी दस्तावेज को सम्बन्धित जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में प्रेषित करनी है।

सीबीएसई स्कूल की स्थापना।

मैं आपको बताना चाहूंगा की स्कूल सीबीएसई हो, आईसीएसई हो या आईबी बोर्ड हो सबसे पहले स्टेट बोर्ड की इफिलिएशन होना अनिवार्य है। क्यो की शिक्षा एक राज्य का मुद्दा है। इसलिए राज्य से परमीशन होना जरूरी है।
चाहे आप बड़े बड़े ब्रांड स्कूलों की फ्रेंचाइजी लेते हो फिर भी आपको राज्य सम्बन्धता लेनी ही पड़ेगी।
राज्य सरकार से अनापत्ति प्रमाणपत्र प्राप्त करें।
राज्य सरकार से बोर्ड सम्बन्ध ता प्राप्त करे।
भूमि की भूखंड पंजीकृत करें।



How to start play school

सबसे पहले हम आपको बताना चाहेंगे कि आप play school खोलकर अच्छी इनकम कर सकते हैं क्यो की आज कल के माता पिता अपने दो से तीन साल के बच्चो को स्कूल भेजने के लिए तैयार कर देते हैं। इस लिए इस प्रकार के स्कूलों की डिमांड ज्यादा है।
इसका मुख्य कारण है कि आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में माता पिता को नोकरी या अपने व्यवसाय से समय नहीं मिल पाता है इसलिए वह अपने बच्चों को प्ले स्कूल में एडमिट करा देते हैं।
प्ले स्कूल में दो से तीन साल के बच्चो को ही रखा जाता है।
प्ले स्कूल में आपको अच्छा वातावरण देना होता है।
ट्रस्ट संस्था में 3 सदस्य होना जरूरी है।
इंडिया ट्रस्ट एक्ट के अनुसार आपकी संस्था का रजिस्ट्रेशन होना चाहिए।
जिस जमीन पर आप स्कूल खोलना चाहते हैं उस जमीन का ओरिजिनल documents होना चाहिए।
प्ले स्कूल की लागत आपको पांच से बीस लाख रुपए की आएगी या फिर आप बड़े स्कूल की फ्रेंचाइजी भी ले सकते हैं।
प्ले स्कूल के लिए 2000 से 4000 वर्ग फुट जगह होनी चाहिए।
उस जगह पर आप खुद की बिल्डिंग बनाए या फिर किराया से लेना चाहिए।
उस बिल्डिंग में बड़े बड़े कमरे ओर हवादार कमरे होना चाहिए।
एक खेल मैदान होना चाहिए।
कमरे की दीवारों पर आकर्षित रंगीन चित्र होना चाहिए।
बच्चो के लिए सभी प्रकार के खिलौने होने चाहिए।

How to start primary school

हमारे देश में प्राथमिक शिक्षा का महत्व बहुत ज्यादा है। ओर होना भी चाहिए क्योंकि बच्चो का सही या ग़लत डायरेक्शन यही से मिलता है। इसलिए आप अच्छा प्राथमिक स्कूल खोलकर अच्छी इनकम कर सकते हैं। हम आपको कुछ जानकारी देने वाले है  प्राथमिक स्कूल केसे खोले, के बारे में।

प्राइमरी स्कूल खोलने के लिए कुछ गाइडलाइंस।


  • कम से कम तीन सदस्यों की ट्रस्ट संस्था होनी चाहिए जो बीएड धारक हो। 
  • यह ट्रस्ट या संस्था नॉन प्रोफिट होना चाहिए।
  • इसमें किसी भी सदस्य को निजी फायदा नहीं मिले।
  • सभी इनकम शिक्षा के लिए उपयोग की जाय।
  • एक बार ट्रस्ट का रजिस्ट्रेशन कराने के बाद आपको एक systematicbusiness plan के जरूरत होगी। 
  • स्कूल के लिए जमीन के documents होना जरूरी है।


How to start सेकंडरी स्कूल।

अगर आपका स्कूल पहले से ही प्राथमिक विद्यालय है तो आप इसमें क्लास आगे बढ़ाने के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इसमें आपको आसानी होगी और एक साथ सभी क्लास की जीमेदारी नहीं उठानी पड़ेगी। आपका स्कूल एक एक क्लास आगे चलता रहेगा।

How to start State board school




दोस्तो में आपको बताना चाहूंगा की हर राज्य के अलग अलग नियम होते हैं।
स्टेट बोर्ड स्कूल खोलने में आपको आसानी हो जायेगी क्यो की स्कूल का रजिस्ट्रेशन जल्दी हो जाता है।
जैसा कि में आपको पहले बता चुका हूं स्कूल की मान्यता केसे ले।

Noc प्रोसेस।

 No- objection certificate प्राप्त करने के तीन साल के भीतर स्कूल निर्माण कार्य शुरू हो जाना चाहिए।

Choose land for school

सबसे पहले तो मैं आपको बताना चाहूंगा की स्कूल के लिए 1.5 एकड़ भूमि होना जरूरी है।

  • भूमि का चुनाव ऐसी जगह करना चाहिए जहा ज्यादा शोर शराबा वाला एरिया ना हो।
  • ज्यादा पब्लिक वाले क्षेत्र का दौरा करना चाहिए।
  • जहा पर बच्चो को आने जाने में कोई तकलीफ ना हो।
  • आसपास प्रदूषण ना हो।
  • पानी की व्यवस्था हो।
  • खुला मैदान होना चाहिए।
  • जहां आस पास ज्यादा स्कूल ना हो।
  • अपने टारगेट स्टूडेंट्स का भी ध्यान रखकर भूमि का चयन करना चाहिए।
  • जहां आने जाने का रास्ता सही है इसी जगह का चयन करना चाहिए स्कूल के लिए।


टीचर्स का चयन किस आधार पर करे।

में आपको बताना चाहूंगा कि दोस्तो आपका स्कूल ही इस बात पर निर्भर होता है कि आप किस प्रकार के टीचर्स रखते हैं पड़ाने के लिए और आपकी इनकम भी इसी आधार पर होती है क्यो की टीचर्स अच्छे होंगे तो बच्चो को अच्छे शिक्षा मिलेगी ओर अच्छा रिजल्ट रहता है तो आपके स्कूल के प्रति ज्यादा स्टूडेंट्स आएंगे।

  • आपको बीएड धारक टीचर्स रखना चाहिए।
  • एक सब्जेक्ट के लिए एक ही टीचर रखना चाहिए।
  • अगर हो सके तो एक्सपीरियंस वाले टीचर्स को रखे।
  • सभी विषयों के टीचर्स रखना चाहिए।
  • बच्चो से टीचर्स के बारे में फीड बैक लेते रहना चाहिए। 
  • सही अनुशासन वाले टीचर्स को रखना चाहिए क्यो की इसका टीचर्स का असर बच्चो पर भी जाता है।
  • समय को वैल्यू देने वाले टीचर्स होने चाहिए।


Conclusion

दोस्तो उम्मीद करते हैं आपको स्कूल केसे खोले, ओर
स्कूल खोलने की पूरी प्रक्रिया के
जानकारी आपको मिल गई होगी अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट जरूर करें हम आपके सवाल का जवाब देंगे।
लाइक और शेयर करने के लिए आप का प्रेम पूर्वक दिल से
धन्यवाद।

1 comment: