Breaking

Sunday, May 19, 2019

7 secret strategy for business_

7 secret strategy for business


अपने प्रॉडक्ट की मार्जिन को बढ़ाने की 7 रणनीति
हेल्लो दोस्तो स्वागत है आपका फिर एक बार आज फिर आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण आर्टिकल लेकर आया हूं जिसमें आप जानेंगे की केसे अपने बिजनेस का मार्जिन बड़ाए प्रॉडक्ट की प्राइस स्टेबल रख कर।
आज के समय में बिजनेस हर कोई स्टार्ट कर रहा या फिर कर रहा है लेकिन किसी कारणों से अपने बिजनेस में विफल हो जाते है क्यो की वह अपने बिजनेस की रणनीति को नहीं समझ पाते हैं।
आज के इस आर्टिकल में 7 इसी सीक्रेट स्ट्रेटजी जानने वाले हैं कि केसे अपने बिजनेस की रणनीति तैयार करे जिससे मार्जिन अच्छा हो और ग्राहक भी संतुष्ट रहे।क्यो की दोस्तो आपको अपने ग्राहक को भी संतुष्ट रखना है।चलिए शुरू करते हैं।

1.low profit margin

आप अपने प्रोडक्ट की की प्राइस कम रखिए  आप सोच रहे होंगे की अगर प्राइस कम रखेंगे तो मार्जिन कहा से आएगा। तो इसके लिए आपको अपने पापुलर प्रॉडक्ट ब्रांड के साथ और दूसरे प्रॉडक्ट तैयार कीजिए जिससे आप अपना मार्जिन एडजस्ट कर सके। और दोस्तो इसके लिए आप आगे की रणनीति भी पढ़िए आपको पता चलेगा की केसे हम प्राइस को स्टेबल रख कर अच्छा खासा मार्जिन प्राप्त कर सकें। उदाहरण के लिए आप पारले जी बिस्कुट 25 साल से एक ही प्राइस के साथ दुनिया का सबसे बड़ा बिस्कुट ब्रांड बना हुआ हैं।अगर दोस्तो आप भी ऐसा ही करना चाहते हो तो आगे की रणनीति भी पढ़िए।

2.अपने प्रॉडक्ट की प्राइस स्टेबल रखे क्वांटिटी घटाए

दोस्तो यह स्ट्रेटजी भी आपको बहुत प्रोफिट दिलाएगी बस आपको करना क्या है अपने प्रॉडक्ट की प्राइस स्टेबल रखनी है और प्रॉडक्ट की क्वांटिटी कम करनी है।लेकिन दोस्तो आपको अपने प्रॉडक्ट की मात्रा को थोड़ी थोड़ी मात्रा में कम करते रहना है।ऐसा  नहीं कि आप एक साथ ही आदि मात्रा को कम कर देंगे। आप अपने प्रोडक्ट के साथ 10 प्रतिशत एक्स्ट्रा लिखिए।लेकिन आपको एक बात ध्यान रखनी होगी अपनी प्रॉडक्ट की मात्रा के साथ आप अपने प्रोडक्ट की क्वॉलिटी को कम नहीं करना है। क्यो की लोगो के दिमाग में प्राइस रजिस्टर्ड है। यह कोई ग़लत बात नहीं की आप अपने प्रोडक्ट की मात्रा को घटा रहे हों क्यो की आप अपने प्रोडक्ट पर प्राइस प्रिंटेड हैं। आप भी अपने प्रॉडक्ट की मात्रा के साथ समझोता कर सकते हो।

3.buying intelligence

दोस्तो व्यापारिक बुद्धि कहती हैं अगर आपने रो मटेरियल की खरीद पर पैसा बचा लिया तो यह सीधा आपके मार्जिन को बढ़ाने में मदद करेगा। तो दोस्तो आपको अपने प्रॉडक्ट के लिए कचा माल सीधा खरीदना चाहिए । ऐसा करने से आप अपने प्रोडक्ट की प्राइस को स्टेबल रख सकते हो क्यो की जनता प्राइस सेंसेटिव है।

4.operational efficiency

दोस्तो आपको अपने प्रॉडक्ट के प्रोडक्शन पर कम से कम wastage krna chahiye apne कच्चा माल का क्यो की आपको अपने प्रॉडक्ट की प्राइस स्टेबल रखनी है।
जैसे पारले जी बिस्कुट 115 टन बिस्कुट प्रोड्यूस करता है तो केवल एक प्रतिशत wastage jata hai
अपने कर्मचारि भी ऐसे होने चाहिए जो कामचोरी ना करे।आपके कम्पनी में सिस्टेमेटिक तरीके से काम होना चाहिए।

5.low cost packaging 

दोस्तो अगर आपकी जनता या मार्केट प्राइस सेंसटिव है तो आपको पैकेजिंग पर ज्यादा इन्वेस्ट नहीं करना चाहिए कॉस्ट पैकेजिंग करें इसमें ज्यादा पेपर प्लास्टिक लगाने की जरूरत नहीं है क्योंकि आपको अपने प्रॉडक्ट की प्राइस को स्टेबल रखना है और आपकी जनता तो प्राइस सेंसटिव है वह पैकेजिंग पर ज्यादा ध्यान देगी।

6.strategic location of factory

Ha दोस्तो आपको अपने प्रॉडक्ट फैक्ट्री का लोकेशन ऎसि जगहें रखना चाहिए जहां से आप अपने डिस्टीब्यूटर को लॉ कॉस्ट में प्रॉडक्ट की सप्लाई कर सके। जहा जहा बड़ा हिस्सा कवर हो सके डिस्टीब्यूटर का वहा वहा अपनी फैक्ट्री का लोकेशन रखना चाहिए। जिससे आप निम्न कॉस्ट बचा सकते हो। To save logistic cost
 To save miscellaneous cost
To supply product qucquic
इससे आपका फंड ज्यादा बार घूम सकेगा क्यो की दोस्तो आपको अपने प्रॉडक्ट की प्राइस स्टेबल रखनी है।

7.multiply price variants

दोस्तो आपको सभी प्रकार की प्राइस के अनुसार पैकेजिंग करना चाहिए जिससे कोई भी ग्राहक आपके पास से नहीं जा सकें।अपने प्रोडक्ट की मल्टीपल पैकेजिंग कीजिए प्राइस के अनुसार क्यो की आपको यह पता होना चाहिए कि भारत में अलग अलग परिवार रहते हैं एकल परिवार या सयुक्त परिवार रहते हैं जिसको ध्यान में रखकर अपने प्रोडक्ट की पैकेजिंग करनी चाहिए ताकि एक भी ग्राहक वापिस ना जा सकें।और अपने ग्राहक को यह नहीं लगना चाहिए कि मेरी जेब से एक्स्ट्रा पैसे लगे । 
7 strategy for business
दोस्तो उमिद करते हैं यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा होगा
दोस्तो बिजनेस से रिलेटेड आपको क्या जानकारी चाहिए प्लीज़ कमेंट करे और हा दोस्तो यह पोस्ट शेयर करना ना भूलें।
धन्यवाद

No comments:

Post a Comment